केंद्रीय गृह मंत्री

श्री राजनाथ सिंह

श्री राजनाथ सिंह
श्री राजनाथ सिंह

श्री राजनाथ सिंह का जन्म १० जुलाई, १९५१ को वाराणसी जिले की तहसील चकिया के भभौरा नाम के ग्राम में एक साधारण कृषक परिवार में हुआ | उनके पिता का नाम श्री राम बदन सिंह और माता का नाम श्रीमती गुजराती देवी था |
श्री सिंह ने अपनी प्रारम्भिक शिक्षा अपने ही गॉव के विद्दालय से प्राप्त की और तदोपरांत बी०एस०सी० और एम० एस०सी० (भौतिक विज्ञान ) की परीक्षा उन्होंने गोरखपुर विश्वविद्दालय से उत्त्रिण की | उच्च शिक्षा ग्रहण करने के पश्चात् वे के०बी० स्नातकोत्तर महाविद्दालय, मिर्जापुर में भौतिक विज्ञान के प्रवक्ता के रूप में नियुक्त हुए |

सार्वजनिक एवं सामाजिक जीवन

श्री सिंह अपने विधार्थी जीवन से ही एक मेधावी छात्र थे | वर्ष १९७४ में उन्होंने राजनिति में प्रवेश किया तथा १९७७ में वे उत्तर प्रदेश विधानसभा में विधायक के चुने गए | वर्ष १९८८ में वे उत्तर प्रदेश विधान परिषद् के सदस्य नियुक्त किये गए | वर्ष १९९१ में जब उत्तर प्रदेश में पहली बार भाजपा की सरकार बानी तो उन्हें शिक्षा मंत्री बनाया गया | शिक्षा मंत्री के रूप में उनकी उपलब्धियां अभूतपूर्व रहीं और इस हैसियत से उन्होंने काफी ख्याति अर्जित की | माध्यमिक शिक्षा परिषद् की परीक्षाओं में नकल विरोधी अधिनियम का लागू किया जाना , वैदिक गणित की पढ़ाई प्रारम्भ करना, इतिहास की पाठ्य-पुस्तकों की विषय-वस्तु में संशोधन कर विकृतियों को हटाया जाना उनकी महत्वपूर्ण उपलब्धियां रहीं |

वर्ष १९९४ में वे राज्यसभा के सदस्य बने | २२ नवम्बर १९९९ को उन्हें केंद्रीय मंत्री नियुक्त किया गया और भूतल परिवहन विभाग का दायित्व सौंपा गया | इस कार्यालय के दौरान उन्हें श्री अटल बिहाजरी वाजपेयी जी के ड्रीम प्रोजेक्ट एन०एच०दी०पी० (राष्ट्रीय राजमार्ग विकास कार्यक्रम ) को आरंभ करने का अवसर प्राप्त हुआ | वे वर्ष २००० में दूसरी बार राज्यसभा के लिए निर्वाचित हुए |

श्री राजनाथ सिंह ने २८ अक्टूबर २००० को उत्तर प्रदेश के मुख्य्मंत्री पद की शपथ ली | वर्ष २००१ में वे हैदरगढ़ विधानसभा क्षेत्र से उप-चुनाव जीतकर विधायक बने | वर्ष २००२ में पुनः हैदरगढ़ से विधानसभा चुनाव जीतकर विधान मण्डल दल के नेता बने | श्री सिंह नवम्बर २००२ में तीसरी बार राज्य सभा के सदस्य निर्वाचित हुए | २४ मई २००३ को श्री राजनाथ सिंह कृषि मंत्री बने और बाद में १७ जनवरी २००४ को उन्हें खाध प्रसंस्करण उधोग मंत्रालय का अतिरिक्त प्रभार भी सौंपा गया | इस कार्यालय के दौरान उन्होंने कुछ क्रांतिकारी परियोजनाएं जैसे किसान कॉल सेंटर और कृषि आय बीमा योजना आरंभ की |
उन्होंने आतंकवादी गतिविधियों में हुई वृद्धि एवं आतंरिक सुरक्षा के खतरे के मुद्दे को उठाते हुए 'भारत सुरक्षा यात्रा ' भी आरंभ की जो कई राज्यों से गुजरी | उन्होंने जनता से जुड़े अनेक मुद्दों जैसे आवश्यक वस्तुओं कीमतों में वृद्धि, किसानों की शिकायतों एवं अन्य राष्ट्रीय मुद्दों को बड़ी ही प्रखरता के साथ उठाया | उन्होंने बेरोजगारी उसके कारण तथा उपचार पर एक पुस्तक भी लिखी |

वर्ष २००९ के लोकसभा चुनावों में श्री सिंह गाजियाबाद से लोकसभा सांसद चुने गए |

२६ मई २०१४ को श्री राजनाथ सिंह ने भारत के केन्द्रीय गृह मंत्री के रूप में शपथ ली | तब से वह सक्रिय रूप से केन्द्रीय गृह मंत्री के रूप में कार्य कर रहे है |